Breaking News
Loading...

स्पेशल

याद करो कुर्बानी: 6 आतंकियों को ढेर कर मेजर रामास्‍वामी ने दिया सर्वोच्‍च बलिदान

अनूप कुमार मिश्र नई दिल्‍ली। याद करो कुर्बानी की 10वीं कड़ी में भारतीय सेना के जांबाज मेजर रामास्‍वामी परमेश्‍वरन की वीर गाथा बताने जा रहे हैं. शांतिदूत के तौर पर श्रीलंका में तैनात मेजर रामास्‍वामी परमेश्‍वरन 25 नवंबर 1987 को आतंकियों से सीधी मुठभेड़ के दौरान शहीद हुए थे. उनकी इस शहादत को ...

Read More »

आक्रोश के बाद भी अगड़े वोटरों से आश्वस्त क्यों है बीजेपी?

राज शेखर अगड़ों में आक्रोश बहुत है, खास तौर पर यूपी और बिहार की गोबर पट्टी (काऊ बेल्ट) में, सवर्णों का मानना है कि सरकार दलितों के आगे झुक गई है, पिछड़ों को रिझाने की कोशिश कर रही है और सवर्णों, खास तौर पर ब्राह्मणों और राजपूतों को उनके हाल ...

Read More »

1983 की वो दास्तां जो भूले नहीं भूलती, एक थी बॉबी

ललित राय नई दिल्ली। बिहार का मुजफ्फरपुर और उत्तर प्रदेश का देवरिया इन दिनों चर्चा में हैं। शेल्टर होम की चारदिवारी में मासूम बेसहारा लड़कियों की अस्मत के साथ न सिर्फ खिलवाड़ होता था, बल्कि विरोध करने पर आवाजा दबा दी जाती थी। आवाज दबाने वालों की पहुंत इतनी ऊपर तक ...

Read More »

याद करो कुर्बानी: ‘महावीर’ ने शहादत से पहले अपनी गोली से दुश्‍मन सेना के 4 टैंकों को किया खाक

अनूप कुमार मिश्र नई दिल्‍ली। याद करो कुर्बानी की 9वीं कड़ी के पहले भाग में 1971 में भारत-पाकिस्‍तान के बीच हुए युद्ध के दौरान सेकेंड लेफ्टिनेंट अरुण खेत्रपाल की वीरगाथा आपको बताने जा रहे हैं. सेकेंड लेफ्टिनेंट अरुण खेत्रपाल का जन्‍म 14 अक्‍टूबर 1950 को महाराष्‍ट्र के पूना शहर में हुआ ...

Read More »

नारियों के नरक निकेतन

पीयूष बबेले पहले मुजफ्फरपुर और अब देवरिया. क्या बिहार और क्या यूपी. दोनों जगह से महिलाओं के उत्पीड़न और यौन शोषण की एक-सी कहानियां सामने आ रही हैं. ये दहलाने वाली कहानियां फिल्मों की कल्पनाशीलता से भी ज्यादा भयानक हैं. और इनका सबसे बुरा पहलू यह है कि महिलाएं और बच्चियां उस ...

Read More »

लॉर्ड्स टेस्ट: फटाफट क्रिकेट का असर तो नहीं है ये

सुविज्ञा जैन अपने देश के क्रिकेट प्रेमी सदमे में हैं. क्यों न हों, क्योंकि हम विश्व की रैंकिंग में नंबर वन हैं. पहला टेस्ट हार ही चुके थे. दूसरे टेस्ट की पहली पारी में सिर्फ 107 रन पर आउट हो गए. भले ही दूसरे टेस्ट के डेढ़ दिन का समय ...

Read More »

स्विस महिला ने डिजाइन किया था ‘परमवीर चक्र’, भारतीय सैन्‍य अधिकारी से की थी शादी

अनूप कुमार मिश्र नई दिल्‍ली। क्‍या आपको पता है कि युद्ध में बहादुरी के लिए दिए जाने वाले सर्वोच्‍च सम्‍मान ‘परमवीर चक्र’ का डिजाइन एक विदेशी महिला ने तैयार किया था. इस विदेशी महिला का नाम इवा योन्ने लिण्डा था. स्‍विटजरलैंड मूल की इवा ने भारतीय सैन्‍य अधिकारी से प्रेम विवाह किया था. ...

Read More »

याद करो कुर्बानी: 1.5 किमी तक दुश्‍मन को संगीन से काटते चले गए लांस नायक एक्‍का

अनूप कुमार मिश्र नई दिल्‍ली। याद करो कुर्बानी की 8वीं कड़ी में 1971 के भारत-पाक युद्ध में देश के लिए सर्वोच्‍च बलिदान देने वाले लांस नायक अलबर्ट एक्‍का की वीर गाथा बताने जा रहे हैं. लांस नायक अलबर्ट एक्‍का का जन 27 दिसंबर 1942 को रांची में हुआ था. उनके सैन्‍य ...

Read More »

याद करो कुर्बानी: जब कर्नल तारापोर ने दुश्‍मन सेना के 60 टैंकों को कर दिया ध्‍वस्‍त

अनूप कुमार मिश्र नई दिल्‍ली। याद करो कुर्बानी की 7वीं कड़ी में 1965 के भारत-पाक युद्ध में देश के लिए सर्वोच्‍च बलिदान देने वाले लेफ्टिनेंट कर्नल अर्देशिर बुर्जोरजी तारापोर की वीर गाथा बताने जा रहे हैं. लेफ्टिनेंट कर्नल अर्देशिर बुर्जोरजी तारापोर का जन्‍म 18 अगस्‍त 1923 को महाराष्‍ट्र के मुंबई शहर ...

Read More »

याद करो कुर्बानी: जब थ्री-नॉट-‍थ्री से नेस्तेनाबूत हुए पाक सेना के ‘अजेय’ पैटन टैंक

अनूप कुमार मिश्र नई दिल्‍ली। याद करो कुर्बानी की 6वीं कड़ी में 1965 के भारत-पाक युद्ध में देश के लिए सर्वोच्‍च बलिदान देने वाले कम्पनी क्वार्टर मास्टर हवलदार (CQMH) अब्दुल हमीद की वीर गाथा बताने जा रहे हैं. अब्‍दुल हमीद का जन्‍म उत्‍तर प्रदेश के गाजीपुर जिले के धामूपुर गांव में 1 ...

Read More »

याद करो कुर्बानी: गोलियों से छलनी मेजर शैतान सिंह ने पोस्‍ट छोड़ने से किया इंकार और फिर…

अनूप कुमार मिश्र नई दिल्‍ली। याद करो कुर्बानी की पांचवी कड़ी में  1962 के इंडो-चाइना युद्ध के दौरान मेजर शैतान सिंह की जांबाजी की कहानी हम आपको बताने जा रहे हैं. मेजर शैतान सिंह का सैन्‍य जीवन 1 अगस्‍त1947 को कुमाऊं रेजीमेंट के साथ शुरू हुआ था. मेजर शैतान सिंह के पिता हेम सिंह ...

Read More »

याद करो कुर्बानी: चीनी फौज पर संगीन लेकर अकेले टूट पड़े सूबेदार जोगिंदर सिंह और फिर…

अनूप कुमार मिश्र नई दिल्‍ली। याद करो कुर्बानी की चौथी कड़ी में 1962 के भारत-चीन युद्ध के दौरान देश के लिए अपनी प्राणों का सर्वोच्‍च बलिदान करने वाले सूबेदार जोगिंदर सिंह की वीरगाथा आपको बताने जा रहे हैं. सूबेदार जोगिंदर सिंह का जन्‍म 26 जनवरी 1921 में पंजाब के फरीदकोट में हुआ ...

Read More »